शुक्रवार, 3 सितंबर 2010

फासले

                               उज्जवल गाथा कैसे  गाऊं मधुर चांदनी रातो की ,
                              उन बीते पालो मे होने वाली  मीठी -मीठी बातों की ...
                              लगता है जैसे देखा था कोई सवप्न ......
                              आँखे खुली तो बीत गए वो लम्हे  उन रातो के
                             पलट दिए पन्ने तकदीर ने .....
                            जैसे जीवन की गाथाओ के ................
                                

                             बदल गए वो रिश्ते जो थे कभी हमने बनाये,
                             भूल गए वो पल जो कभी हमने साथ बिताये
                            ज़िन्दगी के साथ जीते ही चले गए ,
                                   बना दिए गए
                           बीच मे कई फांसले जैसे  नदी के हों दो
                                     '' किनारे '' 

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ....
    अच्छी पंक्तिया सृजित की है आपने ........
    भाषा का सवाल सत्ता के साथ बदलता है.अंग्रेज़ी के साथ सत्ता की मौजूदगी हमेशा से रही है. उसे सुनाई ही अंग्रेज़ी पड़ती है और सत्ता चलाने के लिए उसे ज़रुरत भी अंग्रेज़ी की ही पड़ती है,
    हिंदी दिवस की शुभ कामनाएं

    एक बार इसे जरुर पढ़े, आपको पसंद आएगा :-
    (प्यारी सीता, मैं यहाँ खुश हूँ, आशा है तू भी ठीक होगी .....)
    http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_14.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  3. aap sabhi doosto ka tahe dil se shukriya....

    gajendra ji,aapko ko bhi hindi divas ki shub kaamnaye....aur main zaroor padungi...shukriya...

    उत्तर देंहटाएं