शनिवार, 5 फ़रवरी 2011

नेता जी

एक नेता किस्मत के मारे , चुनाव मे हारे
आत्मा-हत्या  के इरादे से, रेलवे क्रोस्सिंग पर पधारे
कई गाड़िया गुज़र गई ,कुछ इधर- कुछ उधर
पर नेता जी खड़े रहे

मैंने शंकवाश  पुछा ?
आत्मा-हत्या करने आये हों?
या गाडियों के दर्शन करने?
नेता जी बोले
आत्मा-हत्या का इरादा तो  है ,
पर मनं मे बड़ा अफ़सोस है
ये मालगाड़ी है ,यात्री गाड़ी नहीं

हमने कहा ,इससे क्या फर्क पड़ता है,
शरीर तो इससे भी मरता है
नेता जी बोले !
नहीं मे अपनी आखरी इच्छा पूरी करूँगा
आजीवन अपनी सभा मे ,मैं दर्शको के लिए तरसता रहा हूँ
इसलिए मालगाड़ी से नहीं ,बल्कि यात्री गाड़ी से मरूँगा
जिससे प्यारे दर्शको के अंतिम दर्शन तो कर सकूँगा !

०५ .०२.२०११ 

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन उन्नति की ओर अग्रसर हो, आपकी लेखन विधा प्रशंसनीय है. आप हमारे ब्लॉग पर भी अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "अनुसरण कर्ता" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    उत्तर देंहटाएं